उत्तर प्रदेशरामपुर

आजम खान की भैंसों के बाद अब कांग्रेस नेता की घोड़ी तलाश रही है रामपुर पुलिस, 82 हजार में खरीदी थी

सपा सांसद आजम खान की भैंसों को तलाश कर सुर्खियों में आई रामपुर पुलिस के कंधों पर अब एक कांग्रेस नेता की गम हुई घोड़ी को तलाशने की अहम जिम्मेदारी भी आई है. कांग्रेसी नेता की गुहार पर एडीजी ने इस प्रकरण को संज्ञान लिया और फिर पुलिस ने इस मामले में गुमशुदगी ऑनलाइन FIR दर्ज कर ली है. हालांकि कोतवाल का कहना है कि उन्हें शनिवार देर शाम तक इस मामले की तहरीर नहीं मिली है.

सपा सांसद आजम खान के डेयरी फार्म से साल 2014 में चोरी हुई भैंसें तलाश कर रामपुर पुलिस देश भर में चर्चा का सबब बन गई थी. अब कांग्रेस के किसान प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष हाजी नाजिश खां की घोड़ी शुक्रवार की रात से गायब हो गई है और रामपुर पुलिस ही उसे भी ढूंढ रही है. नाजिश के मुताबिक पालतू घोड़ी तोपखाना स्थित लाला की चक्की के पास बंधी थी. उसके गायब होने पर चोरी का अंदेशा जताते हुए नाजिश खां ने ट्विटर के माध्यम से एडीजी जोन बरेली को जानकारी भेजी थी.

ऑनलाइन FIR दर्ज, कोतवाल को खबर नहीं

एडीजी ने मामले का संज्ञान लेते हुए रिपोर्ट दर्ज करने के आदेश दिए, जिसके बाद पुलिस ने तहरीर के आधार ऑनलाइन एफआईआर दर्ज कर ली है. हालांकि कोतवाल कृष्णअवतार ने कहा है कि अभी मामला उनके संज्ञान में नहीं है. यदि ऐसा कुछ हुआ है तो घोड़ी को ढूंढा जाएगा. सपा शासन में तत्कालीन कैबिनेट मंत्री मोहम्मद आजम खां के तबेले से भैसें चोरी हो गई थी,जिसको पुलिस ने चौबीस घंटे के भीतर तलाश लिया था.

इसके अलावा रामपुर पुलिस कुछ साल पहले डीएम रहे अमित किशोर के कुत्ते को भी तलाश कर उन्हें सौंप चुकी है. अब पुलिस को कांग्रेसी नेता की घोड़ी की तलाश है. एडीजी बरेली ने संज्ञान लेते हुए डीआईजी मुरादाबाद ओर रामपुर पुलिस को निर्देशित करते हुए इस मामले में कार्रवाई को कहा था, जिसके बाद कोतवाली पुलिस ने ऑन लाइन गुमशुदगी दर्ज कर ली है.

परिवार का हिस्सा थी घोड़ी

नाजिश खां की मानें तो वह घोड़ी को अपने परिवार का हिस्सा मानते थे और बहुत प्यार से उसे पाला जा रहा था. उन्होंने इस घोड़ी को 82 हजार रुपये में खरीदा था. नाज़िश खान का कहना है कि उनके पास रानी नाम की एक घोड़ी थी जोकि, तोपखाना गेट हजरतपुर चौराहे के पास स्थित एक चक्की के पीछे बंधती थी. घोड़ी रानी को कोई पांच नवंबर को खोलकर ले गया था. कांग्रेस नेता ने कोतवाली पुलिस से शिकायत की थी लेकिन, कोई सुनवाई नहीं होने पर इस मामले में उन्होंने एडीजी बरेली से भी शिकायत की थी.

31 जनवरी 2014 को तत्कालीन कैबिनेट मंत्री और वर्तमान में रामपुर के सांसद आजम खां के पसियापुरा स्थित डेयरी फार्म से सात भैंसे चोरी हो गई थीं. पुलिस ने मामले का संज्ञान लेते हुए 24 घंटे के भीतर एक फरवरी को ही आजम खां की सातों भैंसें बरामद कर ली थीं. वहीं, इस प्रकरण में तत्कालीन एसपी ने तत्कालीन चौकी प्रभारी समेत तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित भी कर दिया था.

Related Articles

Back to top button
65 साल के बुजुर्ग ने की बच्ची से हैवानियत: बहाने से घर बुलाकर किया रेप, चल भी नहीं पा रही थी मासूम अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के लिए 17 से शुरू होगा मुख्य अनुष्ठान, जानिए किस दिन होगा कौन सा पूजन रॉयल एनफील्ड हिमालयन 450 बनाम केटीएम 390 एडवेंचर बनाम बीएमडब्ल्यू जी 310 जीएस: स्पेक्स, कीमत की तुलना देखिए काशी की अद्भुत देव दीपावली: 10 लाख से अधिक पर्यटक पहुंचे, ड्रोन से गंगा घाट की ये तस्वीरें मोह लेंगी