देशबड़ी खबर

ड्रग्स केस में आर्यन खान को नहीं मिल सकी जमानत, कई घंटों तक चली बहस, अब कल फिर होगी सुनवाई

फिल्म अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान की जमानत याचिका पर बुधवार को अदालत में सुनवाई हुई. लंबी सुनवाई के बाद अब इस मामले में सुनवाई गुरुवार को भी जारी रहेगी. NCB ने आर्यन खान की जमानत का विरोध किया है. एनसीबी ने कोर्ट में अपना जवाब दाखिल कर दिया है. इसमें एनसीबी की ओर से कहा गया है कि आर्यन की भूमिका आरोपी अरबाज मर्चेंट से अलग नहीं समझा जा सकता. आर्यन के पास भले ही ड्रग्स न मिला हो, लेकिन वह ड्रग पेडलर के संपर्क में था. एनसीबी की ओर से कहा गया है कि ये एक बड़ी साजिश है जिसकी जांच जरूरी है. अरबाज मर्चेंट के पास से मिली ड्रग्स की खरीदारी में आर्यन खान भी शामिल थे. इसके अलावा आरोपी के विदेशों से ड्रग्स के लेनदेन में शामिल होने के सबूत मिले हैं.

अरबाज के पास से नहीं मिला ड्रग्स

आर्यन खान के वकील अमित देसाई ने कोर्ट में अपना जवाब दाखिल करते हुए कहा कि उनके क्लाइंट के पास से कोई ड्रग्स नहीं मिला है. उन्होंने कहा, “यह पूरा मामला दोपहर 2 अक्टूबर को शुरू होता है जब मेरे क्लाइंट को एक क्रूज शिप में बुलाया जाता है. प्रतीक गाबा ने बुलाया था जो आर्गेनाइजर नहीं है, न ही वो गिरफ्तार हुए हैं. उनके कहने पर मेरे क्लाइंट वहाँ पहुंचे. लेकिन चेक इन करने से पहले ही एनसीबी ने इन्हें हिरासत में लिया.”

उन्होंने आगे कहा, “पंचनामा में एनसीबी ने कहा है कि IO आशीष प्रसाद ने कहा है कि उन्हें जानकारी मिली थी कि शिप में ड्रग्स का इस्तेमाल और बेचने के लिए लाया जा रहा है. उसके बाद कुछ लोगों के नाम की जानकारी दी गई और बताया गया कि उनके पास ड्रग्स मौजूद हैं. उसके बाद एनसीबी की टीम ने शिप के गेट पर जाँच शुरू की. शाम 6 बजकर 50 मिनट पर जाँच शुरू की गई और तलाशी शुरू की गई. कुछ लोगों के पास से ड्रग, कॉण्ट्रा बैंड भी मिले. कुछ लोगों से 5 ग्राम MD, 10 ग्राम कोकीन, 10 ग्राम चरस बरामद किया गया. इश्मीत सिंह चड्डा के पास से ड्रग्स के 15 टेबलेट मिले, 40 हज़ार कैश मिला, जिसपर इश्मीत ने कहा कि वो इस कैश का इस्तेमाल ड्रग्स खरीदने के लिए करने वाले थे.”

उन्होंने कहा कि आर्यन खान और अरबाज मर्चेंट जब डिपार्चर गेट पर पहुंचे तो उनको भी एनसीबी अधिकारियों ने अपनी जानकारी दी और उनसे पूछा कि क्या उनके पास कोई ड्रग्स है. उसमें अरबाज मर्चेंट ने माना कि उसके जूते में चरस है. कुल 6 ग्राम चरस मिला. लेकिन इसमें दोनों का नाम जोड़ा गया. आर्यन खान से कुछ नहीं मिला. अरबाज मर्चेंट के मामले में उनके वकील बताएंगे कि किस तरह यह बहुत कम मात्रा में मिली.

ड्रग्स खरीदने के लिए आर्यन के पास कैश भी नहीं मिला

अमित देसाई ने आगे कहा, “जानकारी के आधार पर एनसीबी को पता चला कि कुछ लोग ड्रग्स का सेवन और बेचने का काम करने वाले हैं. लेकिन जो जानकारी मिली, उसके आधार पर आप देखें कि आर्यन खान के पास कुछ मिला ही नहीं. ना उन्होंने इसका इस्तेमाल किया, ना उनके पास ड्रग्स मौजूद था और ना ही उन्होंने इसको बेचा. जिस जानकारी के आधार पर यह कार्रवाई की गई, वो जानकारी आर्यन खान के मामले में गलत साबित हुई. आर्यन खान के पास ना ही ड्रग्स था, ना ही उन्होंने इसका इस्तेमाल किया. न ही उनके पास इसे खरीदने के लिए कैश था.” आर्यन के वकील अमित देसाई ने कहा अदालत को मैं फैक्ट्स बता रहा हूँ. बार बार NCB बिग पिक्चर की बात कर रही है. लेकिन उन्हें यह अधिकार नहीं है कि ऐसे लोगों को पकड़े जिसका इससे कोई लेना देना नहीं है.

आर्यन के वकील अमित देसाई ने कहा कि NCB ने कई जगहों पर कट एंड पेस्ट का काम किया है. लेकिन पहले रिमांड एप्लीकेशन में बाकी आरोपियों का नाम नहीं था. आखिर में लिखा गया है कि 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. बाद में कहा गया कि आर्यन खान के मोबाइल फोन से कई सबूत मिले हैं और इसके अंतराष्ट्रीय तार भी जुड़ रहे है इसलिए रिमांड बढ़ाने की मांग की गई है. अब यह बता रहे हैं कि अबतक पूरे मामले में कितने रिमांड हुए हैं. उन्होंने कहा कि तीसरी रिमांड के समय आचित का नाम सामने आता है और कहा जाता है कि आर्यन खान ने इसकी जानकारी दी है. आचित से 2.6 ग्राम गांजा मिलता है, यही एक तार है जो आर्यन से जोड़ा गया है.

जमानत रोकने के लिए NCB ने ड्रग ट्रैफिकिंग जोड़ा

अमित देसाई ने कहा कि एनसीबी ने इंटरनेशनल ड्रग ट्रैफिकिंग का जिक्र किया और उसमें आर्यन खान का नाम शामिल किया. मुझे लगता है कि NCB को पता होगा कि NDPS एक्ट में Illicit Trafficking की जानकारी दी गई है और यह एक गंभीर चीज है. ऐसे शब्दों का ऐसे ही इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए. यह सब केवल जमानत याचिका को रोकने के लिए किया गया है. क्या आप किसी भी तरह आर्यन खान को इससे जोड़ पाए हैं? अदालत ने पहले भी ऐसे मामलों पर सुनवाई की है. बिना किसी ड्रग्स की रिकवरी के आर्यन खान को Illicit Trafficking से जोड़ा गया. अमित देसाई ने कहा, जो डॉक्यूमेंट NCB ने ड्राफ्ट किया है, उससे ऐसा लगता है कि आर्यन खान का इन सभी से लेना देना है. लेकिन ऐसा कुछ नहीं है और इसलिए हम यहाँ पर अदालत के सामने हैं.

अमित देसाई ने कहा कि यह एक Conspiracy है जिसमें इन सभी को इसमें जोड़ा जा रहा है. हर किसी को क्रूज़ से नहीं गिरफ्तार किया गया. बाहर से भी लोगों को गिरफ्तार किया गया. Illicit trafficking में ड्रग्स की Cultivation, Production, Manufacturing, Consumption, Import export जैसी चीजों को शामिल किया जाता है. ऐसी किसी चीज से इनका कोई लेना देना नहीं है. फिर भी illicit trafficking लिखा गया है. Illicit Trafficking में 27A के तहत कार्रवाई की जा सकती है. यही एक Provision है, जिसके तहत इसपर कार्रवाई की जा सकती है. लेकिन जो रिमांड एप्लीकेशन है, उसमें जाने पर पता चलता है कि पंचनामा में illicit trafficking का कोई जिक्र भी नहीं है. रिमांड एप्लीकेशन में 27A का ज़िक्र नहीं है. यह इसलिए क्योंकि इनको पता है कि आर्यन खान का इससे कोई लेना देना नहीं है.

अरबाज के वकील ने मांगी जमानत

अब अरबाज़ मर्चेंट के वकील तारक सैय्यद ने कोर्ट में अपने क्लाइंट का पक्ष रखा. उन्होंने कहा, इस पूरे मामले में जो पंचनामा है उसमें मेरे क्लाइंट से 6 ग्राम चरस बरामद की गई है. केवल मोबाइल फोन के लिए अलग से पंचनामा बनाया गया. अगर शुरुआती रिकवरी के समय फोन बरामद नहीं किया गया और इस पर अलग से पंचनामा बनाया गया तो फिर यह पूरा मामला यहीं खत्म हो जाता है. पहला पंचनामा देखें, तो जब हमारी तलाशी की गई और उसमें इसका जिक्र नहीं था. यह सब व्हाट्सएप्प चैट बाद में कहाँ से आ रहे हैं. मेरे क्लाइंट पर केवल Consumption का मामला है. जब फोन रिकवर ही नहीं हुआ था, तो फिर अब उसपर चर्चा कैसे हो रही है. बाद में यह सब जोड़ा गया और इसपर ही पूरा मामला बनाया गया है.

उन्होंने आगे कहा कि मेरे क्लाइंट ने जिससे यह ड्रग्स लिया गया था उसे भी गिरफ्तार किया गया है. जिस तरह इससे पहले भी कहा गया कि बाकी लोगों से जो ड्रग्स बरामद किए गए, उसमें हमें नहीं जोड़ा जा सकता है. अगर कोई कनेक्शन हो, तो बात अलग है, लेकिन ऐसा कुछ नहीं है. मैं अदालत से अपील करता हूँ कि इन्हें ज़मानत दी जानी चाहिए.

मेरी क्लाइंट के पास से नहीं मिला ड्रग: मुनमुन के वकील

मुनमुन धमिचा के वकील अली काशिफ खान ने कहा कि मेरी क्लाइंट फैशन मॉडल हैं और क्रूज में जिन्होंने उन्हें invite किया था, वो गिरफ्तार नहीं हुए हैं. मेरे क्लाइंट को बलदेव ने बुलाया था, वो आरोपी नहीं हैं. मेरी क्लाइंट ने क्रूज़ में एंट्री की और दो मिनट में वहाँ तलाशी शुरू हुई और उनके रूम के एक कोने से एक पैकट मिला. पंचनामा के अनुसार दो लोगों के साथ मुनमुन वहाँ पहुंची थी और वह दोनों आरोपी नहीं हैं.

अली काशिफ खान ने कहा कि एक ट्रांसपरेंट प्लास्टिक पैकेट तलाशी के समय एक डेस्क के कार्नर पर मिला. पंचनामा में एक जगह पर लिखा है कि मुनमुन के कमरे में तलाशी के समय कुछ नहीं मिला, लेकिन एक दूसरे आरोपी के लगेज में से ड्रग्स मिला है. मेरा सवाल यही है कि आखिर मेरी क्लाइंट जेल में क्यों हैं. जिनके पास से ड्रग्स मिला वह उनको जानती नहीं हैं. मुनमुन धमिचा के वकील ने कहा कि मेरी क्लाइंट का आर्यन खान और अरबाज़ मर्चेंट से कोई लेना देना नहीं है, लेकिन इसके बावजूद इनके साथ उन्हें गिरफ्तार किया गया.

मुनमुन धमिचा के वकील ने आगे कहा कि अरेस्ट मेमो के अनुसार जिस आधार पर मेरी क्लाइंट को गिरफ्तार किया गया, उससे मेरा कोई लेना देना नहीं है. वह कोई सेलिब्रिटी नहीं हैं, लेकिन इसके बावजूद उन्हें गिरफ्तार किया गया. NCB ने जो रिप्लाई फ़ाइल की है, उसमें सारे आरोप आर्यन और अरबाज़ पर हैं. उन्होंने आगे कहा कि रिप्लाई में एनसीबी ने कहा है कि मेरी क्लाइंट के पास से 5 ग्राम ड्रग्स मिला, जबकि पहले पंचनामा में लिखा है कि उनके रूम में से ड्रग्स मिला है, उनके पास से नहीं. NCB रिप्लाई में लगाए गए आरोपों में किसी भी आरोप का मेरी क्लाइंट से कोई लेना देना नहीं है. अगर मेरी क्लाइंट के रूम में कुछ मिला है, उसके लिए बलदेव से पूछताछ होनी चाहिए. वो रूम मेरी क्लाइंट के नाम पर था, लेकिन उसे उसने बुक नहीं किया था और ड्रग्स उस कमरे से मिला है.

यह दो लोगों से जुड़ा मामला नहीं, बल्कि एक गैंग की बात है: NCB

NCB के वकील ने अदालत में कहा कि इस मामले में ड्रग्स सेवन और बिक्री की बात सामने आयी है. यह एक गंभीर मामला है और समाज पर इसका असर पड़ा है. रेव पार्टी में युवा ड्रग्स ले रहे हैं, यह एक चिंताजनक बात है. यह मामला एक या दो व्यक्ति से जुड़ा नहीं है. हम पूरे एक गैंग की बात कर रहे हैं कि आखिर कहाँ तक यह मामला गया है, और वही पता लगाने की कोशिश शुरू है. यह कहीं नहीं लिखा है कि किसने बुलाया अगर ऐसा है तो इनविटेशन कहां है? यह मानना मुश्किल है कि मैं कहीं जा रहा हूँ, मेरे साथ जो है, उसके पास ड्रग्स है और उसकी मुझे जानकारी नहीं है.

आर्यन और ड्रग पेडलर के बीच मिली चैट- NCB

NCB के वकील ने कहा कि यह इतना आसान नहीं है कि मैंने ड्रग्स केवल सिर्फ अपने सेवन के लिए लिया. इसलिए ड्रग्स के जड़ तक जाने के लिए जांच शुरू है. जब आरोपियों को गिरफ्तार किया गया तब दूसरे रिमांड के समय हमने साजिश की बात कही है. उसका मतलब यही है कि सभी एक दूसरे से जुड़े हैं. अबतक 20 लोगों को गिरफ्तार किया है. उसमें ड्रग पेडलर भी शामिल हैं. आर्यन खान, अरबाज़ और ड्रग पैडलर के बीच चैट भी मिले हैं. हमने यह चैट अदालत को बताए हैं. इसमें बड़ी मात्रा की बात की गई है. जाहिर सी बात है कि यह केवल अपने इस्तेमाल के लिए नहीं है. NCB के वकील ने आगे कहा कि ऐसे दूसरे भी चैट हैं, जो मैं अदलात में नहीं पढ़ना चाहता. लेकिन अंतराष्ट्रीय पैडलर से बातचीत सामने आई है जिसमें हार्ड ड्रग्स का ज़िक्र है. इस मामले की पूरी जांच होनी चाहिए और अगर किसी को छोड़ा गया तो इसका पूरी जांच पर प्रभाव पड़ सकता है.

‘ड्रग्स न मिलने से कोई निर्दोष नहीं’

NCB के वकील ने कहा कि आर्यन के पास से कॉन्ट्राबैंड नहीं मिला, अरबाज़ के पास से मिला. इनका कहना है कि मेरे पास से कुछ नहीं मिला. मेरे दोस्त के पास से मिला और वो भी बहुत कम मात्रा में. मामले की जांच जारी है. हम वालेंटरी स्टेटमेंट और पंचनामा को नज़रंदाज़ नहीं कर सकते. अरबाज़ आर्यन से उसके घर मिला था. आर्यन ने बताया कि अरबाज और वो अच्छे दोस्त हैं. अरबाज आर्यन के घर गया, वो लोग एक ही साथ में क्रूज़ गए. यह पता चला है कि अरबाज के पास ड्रग्स होने की जानकारी आर्यन को थी. इसलिए यह कहना सही नहीं है कि मेरे पास कुछ नहीं मिला इसलिए मैं निर्दोष हूं.

एनसीबी ने ड्रग पेडलर अचित कुमार की गिरफ्तारी के बारे में भी कोर्ट को बताया. एनसीबी के वकील ने कहा कि अचित के पास से कमर्शियल मात्रा में ड्रग्स नहीं मिला था, लेकिन वो ड्रग पैडलर है. एक दूसरा ड्रग पैडलर शिवराज रामदास है, वो अरबाज़ के संपर्क में था. अचित और शिवराज दोनों पेडलर हैं. एक कॉन्सपिरेसी के मामले में जरूरी नही है कि हर किसी से कॉमर्शियल मात्रा में ड्रग्स मिले. Conspiracy की बात इसलिए कर रहे हैं क्योंकि कई लोग इसमें शामिल हैं. पेडलर भी शामिल हैं. पता चला है कि पिछले कुछ सालों से कुछ लोग ड्रग्स का सेवन कर रहे हैं.

Related Articles

Back to top button
65 साल के बुजुर्ग ने की बच्ची से हैवानियत: बहाने से घर बुलाकर किया रेप, चल भी नहीं पा रही थी मासूम अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के लिए 17 से शुरू होगा मुख्य अनुष्ठान, जानिए किस दिन होगा कौन सा पूजन रॉयल एनफील्ड हिमालयन 450 बनाम केटीएम 390 एडवेंचर बनाम बीएमडब्ल्यू जी 310 जीएस: स्पेक्स, कीमत की तुलना देखिए काशी की अद्भुत देव दीपावली: 10 लाख से अधिक पर्यटक पहुंचे, ड्रोन से गंगा घाट की ये तस्वीरें मोह लेंगी