खेल-खिलाड़ीताज़ा ख़बर

India vs Pakistan मैच से पहले कश्मीर में बदला माहौल, लोग बचा रहे बिजली, जमा कर रहे खाना

भारत और पाकिस्तान (India vs Pakistan) के बीच टी20 वर्ल्ड कप 2021के मुकाबले के लिए सब तरफ दिलचस्पी और उत्सुकता है. कश्मीर भी इससे अछूता नहीं है. मौसम विभाग ने पूरी कश्मीर घाटी में बारिश और बर्फबारी का अनुमान जताया है. इसके चलते लोगों ने मैच को लेकर तैयारियां शुरू कर दी है. कश्मीर के बड़गाम जिले में रहने वाले 65 साल के रिटायर्ड सरकारी कर्मचारी बशीर अहमद मैच में पाकिस्तान को सपोर्ट कर रहे हैं. उन्होंने मैच के बारे में बताया, ‘मैं अपने परिवार को इन्वर्टर बैटरी इस्तेमाल करने से मना कर रहा हूं. इस मौसम में बिजली कटौती होती है और मैं नहीं चाहता कि मैच मिस हो. पाकिस्तान को सपोर्ट करने के बारे में उन्होंने कहा, यह पर्सनल चॉइस है. मेरे पिता इमरान खान के बड़े फैन हैं और मैंने क्रिकेट से प्यार करना उन्हीं से सीखा. लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि एक देश के रूप में मैं पाकिस्तान के साथ हूं. यही तो खेल की खूबसूरती है.’

पिछले दो दिनों से पूरे कश्मीर में भारी बारिश और बर्फबारी देखने को मिल रही है. लेकिन यह बारिश भी फैंस के उत्साह को कम नहीं कर पाई है. कश्मीर में रहने वाले कई परिवारों के लिए भारत-पाकिस्तान का मैच काफी भावुक मामला है. वैसे भी ये दोनों देश आपस में काफी कम क्रिकेट खेलते हैं और इस बार भी मैच करीब दो साल बाद हो रहा है. इस दौरान कश्मीर में काफी कुछ बदल चुका है. भारत-पाकिस्तान के बीच रिश्ते में भी तनाव बढ़ा हुआ है. लेकिन इन सबके बीच कश्मीरी लोग मैच देखने की तैयारियों में लगे हुए हैं. पावर बैक अप जुटाए जा रहे हैं. खाने-पीने का बंदोबस्त भी एक ही जगह किया जा रहा है. चरारी शरीफ में रहने वाले रिटायर्ड टीचर गुलाम नबी ने कहा, ‘एक समय ऐसा था जब पूरा मोहल्ला हमारे घर पर इकट्ठा होता था क्योंकि केवल हमारे घर में ही टीवी था. लेकिन अब हालात बदल गए हैं. अब मोबाइल पर भी मैच देखा जा सकता है और बाकी काम भी किया जा सकता है.’

लोग टीवी तोड़ते थे और अंगीठियां फेंक देते थे

कश्मीर के मशहूर लेखर और व्यंग्यकार जरीफ अहमद जरीफ भारत-पाकिस्तान के पुराने मैचों के दिनों को याद करते हुए बताते हैं कि पहले जब भी मैच होता था तब सड़कें खाली हो जाया करती थी. पूरी घाटी सुनसान हो जाया करती थी. उन्होंने कहा, ‘लोग मैच शुरू होने से पहले ही अपने घर चले जाया करते थे. तब टी20 फॉर्मेट नहीं था. यदि दिन में मैच होता तब मार्केट और दफ्तर भी बंद रहा करते थे. मैंने लोगों को गुस्से और निराशा में टीवी तोड़ते और अंगीठियां फेंकते देखा है फिर चाहे जो जीते या हारे.’

क्रिकेट फैंस को एक्सपर्ट बना देता है जो हर एक गेंद पर अपने कमेंट देते हैं. यदि फैंस की मनचाही टीम जीती तो खूब जश्न मनेगा और अगर ऐसा नहीं हुआ तो उल्टा होगा. लेकिन चाहे जो टीम जीते कश्मीर में बहुत से लोगों के दिल टूटेंगे. साथ ही कई लोग पटाखें भी जलाएंगे.

Related Articles

Back to top button
65 साल के बुजुर्ग ने की बच्ची से हैवानियत: बहाने से घर बुलाकर किया रेप, चल भी नहीं पा रही थी मासूम अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के लिए 17 से शुरू होगा मुख्य अनुष्ठान, जानिए किस दिन होगा कौन सा पूजन रॉयल एनफील्ड हिमालयन 450 बनाम केटीएम 390 एडवेंचर बनाम बीएमडब्ल्यू जी 310 जीएस: स्पेक्स, कीमत की तुलना देखिए काशी की अद्भुत देव दीपावली: 10 लाख से अधिक पर्यटक पहुंचे, ड्रोन से गंगा घाट की ये तस्वीरें मोह लेंगी