देशबड़ी खबर

सुस्त पड़ी वैक्सीनेशन की रफ्तार तो पीएम मोदी ने अधिकारियों को दिया नया मंत्र, कहा- ढीले पड़े तो आ सकता है बड़ा संकट, घर-घर पहुंचें

देश के करीब 48 जिलों में सुस्त पड़ी वैक्सीनेशन की रफ्तार को गति देने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज जिलाधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बात की. इस दौरान पीएम मोदी ने टीकाकरण अभियान को तेज करने के उद्देश्य से ‘हर घर दस्तक’ कार्यक्रम की भी शुरुआत की.

पीएम मोदी ने कहा कि ये समय ढीला पड़ने का नहीं है बल्कि घर-घर पहुंचकर लोगों को टीका लगाने का है. उन्होंने कहा, अगर हम अभी सुस्त पड़े तो नया संकट खड़ा हो सकता है. इस समीक्षा बैठक में कई राज्यों के मुख्यमंत्री भी मौजूद रहे.

पीएम मोदी ने कहा, ‘आज तक जितनी प्रगति हमने की वह सब आपकी मेहनत से हुई है. लोगों ने दूरदराज के इलाकों में पैदल चलकर वैक्सीन पहुंचाई है लेकिन 1 बिलियन के बाद अगर हम थोड़े भी ढीले पड़ गए तो नया संकट आ सकता है. इसलिए हमारे यहां कहा जाता है कि बीमारी और दुश्मन को कम नहीं आंकना चाहिए.’

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने कहा, पूरी दुनिया ने भारत के 100 करोड़ टीकाकरण की ऐतिहासिक उपलब्धि को सराहा. जन-जन को सुरक्षा देने को संकल्पित मोदी सरकार ने आज ‘हर घर दस्तक’अभियान की शुरुआत की, जिसे हम हर घर तक पहुंचाएंगे.

‘हर घर टीका, घर-घर टीका पर करना होगा काम’

उन्होंने कहा, अब हर उस घर में दस्तक दी जाएगी जहां अब तक कोविड वैक्सीन की दोनों डोज नहीं लगी है. अब हर घर टीका, घर-घर टीका इस जज्बे के साथ हम सबको घर-घर पहुंचना है. पीएम मोदी ने कहा, ‘100 साल की इस सबसे बड़ी महामारी में देश ने अनेक चुनौतियों का सामना किया है. कोरोना से देश की लड़ाई में एक खास बात ये भी रही कि हमने नए-नए समाधान खोजे, इनोवेटिव तरीके आजमाए. आपको भी अपने जिलों में वैक्सीनेशन बढ़ाने के लिए नए इनोवेटिव तरीकों पर और ज्यादा काम करना होगा.’ उन्होंने कहा, क्षेत्र में योग्य आबादी का टीकाकरण करने के लिए एक योजना के तहत गाने और जिंगल का भी उपयोग कर सकते हैं.

छोटी-छोटी टीमें बनाकर लोगों तक पहुंचें

प्रधानमंत्री ने जिलाधिकारियों से बातचीत में कहा, ‘अपने जिलों में एक-एक गांव, एक-एक कस्बे के लिए अगर अलग-अलग रणनीति बनानी हो तो वो भी बनाइए. आप क्षेत्र के हिसाब से 20-25 लोगों की टीम बनाकर भी ऐसा कर सकते हैं. जो टीमें आपने बनाई हों, उनमें एक बेहतर कंपटीशन हो, इसका भी प्रयास कर सकते हैं.’

धर्मगुरुओं की मदद से लोगों को करें जागरुक

पीएम मोदी ने कहा, लोगों में एक चुनौती अफवाह और भ्रम की स्थिति भी है. इसका एक बड़ा समाधान है कि लोगों को ज्यादा से ज्यादा जागरूक किया जाए. इसमें स्थानीय धर्मगुरुओं की भी मदद भी ली जा सकती है. वैक्सीन पर धर्मगुरुओं के संदेश को भी हमें जनता तक पहुंचाने पर विशेष जोर देना होगा.

एक दिन में ढाई करोड़ वैक्सीन लगाकर दिखा चुके सामर्थ्य

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘अभी तक आप सभी ने लोगों को वैक्सीनेशन सेंटर तक पहुंचाने और वहां सुरक्षित टीकाकरण के लिए प्रबंध किए. अब हर घर टीका, घर-घर टीका, इस जज्बे के साथ आपको हर घर पहुंचना है. हर घर पर दस्तक देते समय, पहली डोज़ के साथ-साथ आप सभी को दूसरी डोज़ पर भी उतना ही ध्यान देना होगा. क्योंकि जब भी संक्रमण के केस कम होने लगते हैं, तो कई बार अर्जेंसी वाली भावना कम हो जाती है. लोगों को लगने लगता है कि, इतनी भी क्या जल्दी है, लगा लेंगे.’

उन्होंने कहा, सबको वैक्सीन, मुफ्त वैक्सीन अभियान के तहत हम एक दिन में करीब-करीब ढाई करोड़ वैक्सीन डोज लगाकर दिखा चुके हैं. ये दिखाता है कि हमारी कैपेबिलिटी क्या है, हमारा सामर्थ्य क्या है.

Related Articles

Back to top button