उत्तर प्रदेशलखनऊ

लखनऊ विकास प्राधिकरण ने अम्मार ग्रीन सिटी के 10 एकड़ जमीन को कराया मुक्त

लखनऊः राजधानी में एक ओर लखनऊ विकास प्राधिकरण ने जमीनों की बिक्री पर रोक लगाई थी. वहीं दूसरी ओर बिल्डर शोएब खान ऑफिस बनाकर 10 एकड़ की जमीन बेच रहा था. जिसको लेकर लखनऊ विकास प्राधिकरण द्वारा संज्ञान लेते हुए नोटिस जारी किया गया. स्थानीय पुलिस ने शुक्रवार को पुलिस मड़ियांव थाना प्रभारी मनोज सिंह के नेतृत्व में एसएसआई एम अहमद और घैला चौकी इंचार्ज चंद्रकांत यादव ने लखनऊ विकास प्राधिकरण की टीम के साथ जमीन को मुक्त कराने का काम किया है.

आपको बता दें कि लखनऊ के तहत आने वाले मड़ियाहूं क्षेत्र में साल 2005 में जमीन अधिग्रहित कर जमीन बेचने पर प्रतिबंध लगाया गया था. वही प्रबंध नगर जब एलडीए द्वारा बनाया गया था , उसमें अल्लू नगर, ककौली, डिगुरिया गांव सहित 24 से अधिक गांव को लखनऊ विकास प्राधिकरण ने अधिकृत किया था. जिसको आने वाले समय में लखनऊ विकास प्राधिकरण यहां सुंदरीकरण कर नए स्मारकों का निर्माण करने की प्लानिंग थी.

वहीं दूसरी तरफ मड़ियाव अंतर्गत कई प्रॉपर्टी डीलर अलग-अलग फर्म बनाकर मनमाने ढंग से जमीन की बिक्री कर रहे थे. जिसकी शिकायत लखनऊ विकास प्राधिकरण को कई बार जमीन खरीदारों ने की. इसको संज्ञान में लेते हुए शुक्रवार को अम्मार ग्रीन सिटी को नोटिस जारी करते हुए अवैध रूप से निर्माण किए गए ऑफिस को ध्वस्त कर दिया गया. जिससे करीब 10 एकड़ जमीन को मुक्त कराने का काम किया गया.

अवर अभियंता ज्ञानेश्वर सिंह ने कहा कि शोएब खान करीब 10 एकड़ जमीन को चारों तरफ से बैरिकेडिंग कर ऑफिस बनाकर मनमाने ढंग से बेच रहा था. जिसको लेकर कई बार लखनऊ विकास प्राधिकरण ने नोटिस जारी किया था. इसके बावजूद भी जमीन की बिक्री की जा रही थी. जिसके बाद लखनऊ विकास प्राधिकरण ने नोटिस जारी करते हुए करीब 10 एकड़ जमीन को मुक्त कराने का काम किया गया है.

Related Articles

Back to top button