उत्तर प्रदेशताज़ा ख़बरलखनऊ

यूपी सरकार ने किया छह IPS का तबादला, लखीमपुर हिंसा के SIT प्रमुख का नाम भी शामिल

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने राज्य के छह आईपीएस अफसरों के तबादले किए हैं. राज्य सरकार ने जिन अफसरों का तबादला किया है. उसमें उपेन्द्र अग्रवाल का भी नाम शामिल हैं. जो लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में हुई हिंसा के लिए गठित एसआईटी के प्रमुख हैं. वहीं अभी तक किसी अन्य को एसआईटी का प्रमुख नियुक्त नहीं किया है.

राज्य में चुनावी साल को देखते हुए राज्य में तबादलों की प्रक्रिया शुरू हो गई है और इसी को देखते हुए राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार ने 6 आईपीएस अफसरों का तबादला किया है. फिलहाल तबादला सूची गृह विभाग ने जारी कर दी है. वहीं इस तबादला सूची में खास बात ये है कि लखीमपुर हिंसा की जांच टीम के प्रमुख उपेंद्र अग्रवाल का भी ट्रांसफर किया है और उन्हेंदेवीपाटन रेंज का डीआईजी बनाया गया है. वहीं राज्य सरकार डॉ संजीव गुप्ता को लखनऊ में आईजी लॉ एंड ऑर्डर बनाया है.

इन अफसरों का हुआ तबादला

जानकारी के मुताबिक राज्य सरकार ने 1999 बैच के आईपीएस और वर्तमान में अयोध्या रेंज के आईजी संजीव गुप्ता को आईजी कानून व्यवस्था के पद पर नियुक्त किया है. जबकि बस्ती क्षेत्र के आईजी अनिल कुमार राय को आईजी पीएसी सेंट्रल जोन लखनऊ में तैनात किया है. वहीं मोदक आर.डी. राव को बस्ती का आईजी नियुक्त किया गया है. इससे पहले वह प्रयागराज के आईजी कानून व्यवस्था के पद पर नियुक्त थे. राज्य सरकार के तबादला सूची के मुताबिक राकेश सिहं को आईजी देवीपाटन रेंज से प्रयाग राज में आईजी ट्रांसफर किया है. जबकि लखीमपुर हिंसा के लिए गठित एसआईटी के प्रमुख डीआईजी उपेन्द्र अग्रवाल को देवी पाटन मंडल का डीआईजी नियुक्त किया गया है.

बस्ती में सीएम सिक्योरिटी लापरवाही मामले में चार पुलिसकर्मी सस्पेंड

पिछले दिनों बस्ती में सीएम योगी के कार्यक्रम से पहले सुरक्षा में चूक मामले में चार पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है. सीएम के कार्यक्रम में एक व्यक्ति लाइसेंसी हथियार लेकर सभागार तक पहुंच गया था. सीएम सिक्योरिटी में चूक मामले में प्रशासन से लेकर शासन तक हड़कंप मच गया था. फिलहाल इस मामले में राज्य सरकार ने कार्यवाही करते हुए चार पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है. वहीं इस मामले में सात पुलिसकर्मियों को दोषी ठहराया गया है. पुलिस अधीक्षक आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि तीन पुलिसकर्मियों के खिलाफ उनसे संबंधित जिलों के एसपी को रिपोर्ट भेज दी गई है. क्योंकि वह दूसरे जिलों से ड्यूटी के लिए आए थे.

Related Articles

Back to top button